मंगलवार, 10 जून 2014

चरणामृत

.
.
.







बात बहुत पहले की है, मैं छुट्टियों में घर गया था... सुबह सुबह एक पड़ोसन घर आई और न्योता दिया एक आयोजन का, बोली " पंजाब से हमारे गुरु जी आने वाले हैं "... हम सब भाइयों और बहन के अनिच्छा जताने पर भी माँ ने बहन की ड्यूटी लगा दी उस फंक्शन को अटेंड करने की और मेरी ड्यूटी लग गयी अपने से साढ़े छह साल छोटी बहन को ले जाने-लाने की...

भव्य आयोजन था, बड़ा सा पंडाल, बैठने और भोजन पानी का अच्छा इंतजाम... कुछ देर इंतज़ार के बाद एक लक्ज़री गाड़ी में श्वेत वस्त्र धारण किये हुए गुरु जी पधारे, साथ में उनकी पत्नी और पुत्र भी... उनके सिंहासन नुमा आसन पर बैठते ही गृहस्वामी और स्वामिनी ने उनके चमकते सफ़ेद जूते उतारे और एक चाँदी के तसलेनुमा पात्र में उनके चरण धोये... फिर उस पात्र के जल में कुछ बताशे आदि मिला उसे 'चरणामृत' रूप में वितरित किया जाने लगा...

पहले उस ओर का नंबर आया जिधर औरतें और लडकियाँ बैठीं थी... मैं गौर से लगातार उस ओर ही देख रहा था... मुझे उत्सुकता थी कि 'मेरी बहन' क्या करती है ... और वह मेरी बहन थी जिसने अपना हाथ आगे ही नहीं बढ़ाया... बगल खड़ी एक महिला ने जबरदस्ती उसका हाथ आगे खींच उसमें वह चरणामृत डलवा दिया... बहन ने हाथ पीछे की ओर कर उसे बह जाने दिया... यह देख आस पास खड़ी कुछ औरतें हमलावर होने लगीं... और कुछ दूर खड़ा मैं बहुत जोर से बोल पड़ा ताकि सब सुन लें "उसने बिल्कुल ठीक किया, गुरु ही तो हैं, भगवान नहीं, और मैं भगवान का भी इस तरह बनाया चरणामृत नहीं पीता"... सब चुप, मैंने बहन के गले में हाथ डाला और घर चला आया...

बाद में पता चला कि उसके बाद बहुतों ने चरणामृत नहीं पिया ... उस पड़ोसी का परिवार आज भी हम लोगों के साथ सहज नहीं है, पर मुझे इसका मलाल नहीं क्योंकि हमें ज़िन्दगी में कुछ मौकों पर फैसला तो करना ही होता है, वह उस दिन बहन ने किया और मैंने उसका साथ दिया ...






...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मेरे इस आलेख को पढ़ कर ही यदि आपके मन में कोई विचार उत्पन्न हुऐ हैं तो कृपया उन्हें 'नेकी कर दरिया में डाल' की तर्ज पर ही यहाँ टिप्पणी रूप में दर्ज करें... इस टिप्पणी के पीछे कोई अन्य छिपा हुआ मंतव्य न रखें, आप इसे उधार में मुझे दी गयी टिप्पणी न समझें, प्रतिउत्तर में आपके ब्लॉग पर टिप्पणी करने की किसी बाध्यता को मैं नहीं मानता व मुझसे या किसी अन्य ब्लॉगर से भी ऐसी अपेक्षा रखना न तो नैतिक है न उचित ही !... मैं किसी अन्य के लिखे आलेखों पर भी इसी नियम व भावना के तहत टिपियाता हूँ !

असहमति को इस ब्लॉग पर पूरा सम्मान दिया जाता है, आप मेरे किसी भी विचार का खुल कर विरोध या समर्थन कर सकते हैं, परंतु अशिष्ट या अश्लील भाषा यु्क्त अथवा किसी के भी ऊपर व्यक्तिगत आक्षेपयुक्त टिप्पणियाँ कृपया यहाँ न दें... आप अपनी टिप्पणियाँ English, हिन्दी, रोमन में लिखी हिन्दी, हिंग्लिश आदि किसी भी तरीके से लिख सकते हैं... नहीं कुछ लिखना चाहते हैं तो भी चलेगा... आपके आने का शुक्रिया... आते रहियेगा भविष्य में भी... आभार!