मंगलवार, 11 जून 2013

एक योद्धा के विकल्प... Walking into the Sunset...

.
.
.



They admire you
only and only because 
you were a fierce warrior
who raised an army
out of nowhere


They acknowledge
that you developed
that rag tag army
into a fighting unit
having high aspirations


Everybody saw your guts
when at your prime
you used a new weapon
to storm the fort
and succeeded in occupying it


But you must accept
that in the last battle
you were the undisputed leader
and despite your best effort
your army could not win


Age is not on your side
and your army is impatient
they've found a new warrior
to lead them into the battle
to storm the fort again


It pains me to see
that people are saying
that you are sulking in private
refusing to accept the new reality
preferring to relive old glories


Oh, dear, fierce old warrior
accepted, your tribe doesn't retire
old warriors just fade away
but,they, just for the sake of it
don't fight with own disciples


Your place is secure in history
and your army still loves you
but they want to see you
walk into the Sunset
head held high, dignity personified



Now, It's your choice... 

Oh, Fierce, Old Warrior...







...

4 टिप्‍पणियां:

  1. यदि किसी परिस्थिति में या मजबूरी में यह आवश्यक हो जाए ...
    अपनी जिद छोड़ के अपनी अपनी सलाहियतो, परिस्थियों के अनुसार काम को बाँट लेना चाहिए और सुख से जीवन व्यतीत करना चाहिए|

    उत्तर देंहटाएं

मेरे इस आलेख को पढ़ कर ही यदि आपके मन में कोई विचार उत्पन्न हुऐ हैं तो कृपया उन्हें 'नेकी कर दरिया में डाल' की तर्ज पर ही यहाँ टिप्पणी रूप में दर्ज करें... इस टिप्पणी के पीछे कोई अन्य छिपा हुआ मंतव्य न रखें, आप इसे उधार में मुझे दी गयी टिप्पणी न समझें, प्रतिउत्तर में आपके ब्लॉग पर टिप्पणी करने की किसी बाध्यता को मैं नहीं मानता व मुझसे या किसी अन्य ब्लॉगर से भी ऐसी अपेक्षा रखना न तो नैतिक है न उचित ही !... मैं किसी अन्य के लिखे आलेखों पर भी इसी नियम व भावना के तहत टिपियाता हूँ !

असहमति को इस ब्लॉग पर पूरा सम्मान दिया जाता है, आप मेरे किसी भी विचार का खुल कर विरोध या समर्थन कर सकते हैं, परंतु अशिष्ट या अश्लील भाषा यु्क्त अथवा किसी के भी ऊपर व्यक्तिगत आक्षेपयुक्त टिप्पणियाँ कृपया यहाँ न दें... आप अपनी टिप्पणियाँ English, हिन्दी, रोमन में लिखी हिन्दी, हिंग्लिश आदि किसी भी तरीके से लिख सकते हैं... नहीं कुछ लिखना चाहते हैं तो भी चलेगा... आपके आने का शुक्रिया... आते रहियेगा भविष्य में भी... आभार!