मंगलवार, 1 जनवरी 2013

नये साल में एक नये सवेरे की उम्मीद... यह उम्मीद ही तो है जिस पर दुनिया कायम है, दोस्तों....

.
.
.







बर्बर व पाशविक दिल्ली गैंग रेप केस के विरूद्ध समस्त देश ने जैसी एकजुटता दिखाई वह आश्वस्त करती है कि अभी भी सब कुछ खोया नहीं हमने...

आज अपने ब्लॉग के माध्यम से मैं अपने देश की न्यापालिका, कार्यपालिका व विधायिका से यह माँग करूँगा कि...

१- बलात्कार के हर मामले के लिये फास्ट ट्रैक न्यायालयों की स्थापना हो, जो एक तय समय सीमा के अंतर्गत निर्णय सुनायें।

२- दोष सिद्ध होने पर बलात्कारी को जीवनपर्यंत कारावास की सजा हो, यानी वह अपने जिंदा रहते किसी भी हालात में जेल से रिहा न हो, मैं मृत्युदन्ड, चौराहे पर बलात्कारी को खड़ा कर पत्थर मार मारने, रासायनिक बध्याकरण अथवा बलात्कारी के यौनाँग को शल्यक्रिया से शरीर से अलग कर देने जैसी सजाओं के साथ नहीं, क्योंकि मेरा मानना है कि एक सभ्य समाज फिर से मध्ययुगीन सामहिक पाशविकता की ओर नहीं जाना चाहिये, चाहे उसे इस ओर उकसावा देने वाली घटना/घटनायें पाशविक क्रूरता भरी ही क्यों न हों।

३- मैं यह भी माँग करूंगा कि हम उन कारणों की समाजशास्त्रीय व मानव-व्यवहार शास्त्रीय पड़ताल करें जिनकी वजह से इस तरह की घटनायें हो रही हैं, हमें इन वजहों का निराकरण करने के लिये भी ईमानदारी से प्रयास करने होंगे।

४- मैं अपने देश के नीति नियंताओं से एक ऐसी व्यवस्था का निर्माण करने की माँग करता हूँ जिसमें स्त्री के विरूद्ध हो रहे हर अपराध की तुरंत सुनवाई हो, त्वरित कार्यवाही हो व कार्यवाही करने, जाँच करने वाले ़ित के प्रति संवेदनशील हों, उनको ऐसे अपराधों के सबूत ूंढ/जुटा पाने व उनको सुरक्षित रख पाने हेतु प्रशिक्षित किया गया हो व कहीं से भी किसी तरह का कोई दबाव उन पर काम न करे।

५- मैं स्त्री के विरूद्ध अपराध की सूचना देने के लिये एक नेशनल टॉल फ्री नंबर की माँग करता हूँ जिस पर सूचना मिलते ही त्वरित कार्यवाही की जाये।



प्रिय पाठक,

मुझे पता नहीं कि ब्लॉग की आवाज कहाँ तक जाती है या सुनी जाती है... पर मैंने अपना वादा निभा दिया है... आप भी आज के दिन अपने अपने तरीके से अपनी आवाज उठायें, स्त्री पर अपराधों के विरूद्ध...

आइये मिल कर करें इस नये साल में एक नये सवेरे की उम्मीद...

यह उम्मीद ही तो है जिस पर दुनिया कायम है, दोस्तों....

आप सभी को नव वर्ष की शुभकामनायें मित्रों...




आभार!







...

9 टिप्‍पणियां:

  1. मंगलमय नव वर्ष हो, फैले धवल उजास ।
    आस पूर्ण होवें सभी, बढ़े आत्म-विश्वास ।

    बढ़े आत्म-विश्वास, रास सन तेरह आये ।
    शुभ शुभ हो हर घड़ी, जिन्दगी नित मुस्काये ।

    रविकर की कामना, चतुर्दिक प्रेम हर्ष हो ।
    सुख-शान्ति सौहार्द, मंगलमय नव वर्ष हो ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिन तीन सौ पैसठ साल के,
    यों ऐसे निकल गए,
    मुट्ठी में बंद कुछ रेत-कण,
    ज्यों कहीं फिसल गए।
    कुछ आनंद, उमंग,उल्लास तो
    कुछ आकुल,विकल गए।
    दिन तीन सौ पैसठ साल के,
    यों ऐसे निकल गए।।
    शुभकामनाये और मंगलमय नववर्ष की दुआ !
    इस उम्मीद और आशा के साथ कि

    काश! ऐसा होवे नए साल में,
    मिले न काला कहीं दाल में,
    जंगलराज ख़त्म हो जाए,
    गद्हे न घूमें शेर खाल में।

    दीप प्रज्वलित हो बुद्धि-ज्ञान का,
    प्राबल्य विनाश हो अभिमान का,
    बैठा न हो उलूक डाल-ड़ाल में,
    काश! ऐसा होवे नए साल में।

    Wishing you all a very Happy & Prosperous New Year.

    May the year ahead be filled Good Health, Happiness and Peace !!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बस उसी दिन नव वर्ष की खुशियाँ सुकून पायेंगी
    जब इंसाफ़ की फ़सल लहलहायेगी
    और हर बेटी के मुख से डर की स्याही मिट जायेगी

    उत्तर देंहटाएं
  4. नए सूर्योदय की प्रतीक्षा में हम सब भी आशावान हैं.
    नया साल आपको भी शुभ और मंगलमय हो.

    उत्तर देंहटाएं
  5. समाज का चलन उल्टा है
    सच से इसे बैर है।
    आप सच कहेंगे तो ज़माना आपका दुश्मन हो जाएगा
    जड़ों को पानी देकर यह शाख़ें कतरता है
    http://mushayera.blogspot.in/2012/12/modern-girl.html

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रभावी लेखनी,
    नव वर्ष मंगलमय हो,
    बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. samarthan in maangon ka (except point number 2).

    point 2 par ek detailed post likhne vali hoon jaldi hi....

    shayad is mile jule prayas ka kuchh asar ho ?

    उत्तर देंहटाएं
  8. आईये हम अच्छे की उम्मीद करते हैं .....

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत दूर तक गयी है आपकी ये आवाज़ ................नव वर्ष की शुभकामनाओं के साथ , सबका शुभ / मंगल हो .............

    उत्तर देंहटाएं

मेरे इस आलेख को पढ़ कर ही यदि आपके मन में कोई विचार उत्पन्न हुऐ हैं तो कृपया उन्हें 'नेकी कर दरिया में डाल' की तर्ज पर ही यहाँ टिप्पणी रूप में दर्ज करें... इस टिप्पणी के पीछे कोई अन्य छिपा हुआ मंतव्य न रखें, आप इसे उधार में मुझे दी गयी टिप्पणी न समझें, प्रतिउत्तर में आपके ब्लॉग पर टिप्पणी करने की किसी बाध्यता को मैं नहीं मानता व मुझसे या किसी अन्य ब्लॉगर से भी ऐसी अपेक्षा रखना न तो नैतिक है न उचित ही !... मैं किसी अन्य के लिखे आलेखों पर भी इसी नियम व भावना के तहत टिपियाता हूँ !

असहमति को इस ब्लॉग पर पूरा सम्मान दिया जाता है, आप मेरे किसी भी विचार का खुल कर विरोध या समर्थन कर सकते हैं, परंतु अशिष्ट या अश्लील भाषा यु्क्त अथवा किसी के भी ऊपर व्यक्तिगत आक्षेपयुक्त टिप्पणियाँ कृपया यहाँ न दें... आप अपनी टिप्पणियाँ English, हिन्दी, रोमन में लिखी हिन्दी, हिंग्लिश आदि किसी भी तरीके से लिख सकते हैं... नहीं कुछ लिखना चाहते हैं तो भी चलेगा... आपके आने का शुक्रिया... आते रहियेगा भविष्य में भी... आभार!