शुक्रवार, 5 अक्तूबर 2012

मुझे अपना भाई बनाओगे, डॉक्टर ?

.
.
.




मोबाईल की घंटी ने मुझे जगाया... दीवाली का अगला दिन था वह... "हलो" ... बॉस थे दूसरी तरफ... " यह केस तुमको दे रहा हूँ शुरूआत से, हाई प्रोफाइल मामला है, साल्व करने के बाद ही कुछ कहना, कोई 'मैस अप' नहीं होना चाहिये।"

मैं जल्दी से तैयार हुआ, फ्रीज से निकाल ठंडा नाश्ता किया... वह अभी तक सो ही रही थी... कल बहुत मस्ती की थी हम दोनों ने, सारे महानगर की आतिशबाजी देखी, फिर देर रात उसका बनाकर लाया खाना खाया... पता नहीं क्यों वह कमिट नहीं होना चाहती अभी जबकि मेरी उम्र निकली जा रही है...

चुपके से दरवाजा खोल मैं बाहर निकल गया।




मरने वाला हॉट शॉट कॉरपोरेट इंजीनियरिंग फर्म का अधिकारी था... जिस बिल्डिंग में वह अकेला रहता था उसी के दूसरे माले पर उसका बड़ा भाई, जो कार्डियोलोजिस्ट था अपनी बीबी और दो बच्चों के साथ रहता था... सुबह दरवाजा न खुलने पर कामवाली ने बड़े भाई के घर से चाबी ले दरवाजा खोला था... लाश बेड पर पसरी हुई थी, केवल एक गोली सीने पर, पिस्टल पास ही पड़ा था... फारेंसिक टीम ने फिंगर प्रिंट उठाये और मैंने फ्लैट का फर्नीचर और घरेलू सामान छोड़ बाकी सभी चीजों को गत्ते के डब्बों में पैक कर आफिस ले जाने को कहा।




मैं पूरे एक हफ्ते उसके सामान व लैपटॉप को खंगालता रहा... फिंगर प्रिंट्स की भी रिपोर्ट आ गयी थी... पूरे घर में या तो उसके फिंगर प्रिंट्स थे या कामवाली के या भाई के परिवार के... पिस्टल पर भी उसी के फिंगर प्रिन्ट्स थे पर ट्रिगर पर कोई प्रिन्ट नहीं था।




वह क्लीनिक में मरीज देख रहा था... " कैसे आये आफिसर ?"... " आपको कातिल का कुछ अंदाजा है?"... "यह अंदाजा लगाना तो तुम्हारा काम है"... कंधे उचकाये उसने... मैं एक फीकी हंसी हंसा और बाहर आ गया।




इस बार मैंने उसकी कार के आगे अपनी कार अड़ा दी... " डॉक्टर, मुझे लगता है कि तुमने ही अपने भाई को मारा है... मेरे पास आज सबूत नहीं है पर याद रखना कातिल कभी बच नहीं सकता कानून से "... उसका चेहरा उतर सा गया... " अपना कार्ड दो, मैं शाम को तुमसे मिलने आउंगा, आफिसर!"




मैं अकेले बैठा था टीवी के सामने, हाथ में जिन का गिलास, गिलास की तली में पड़े ' आनियन इन ब्राईन' से उठते छोटे छोटे बुलबुलों को देखता... तभी बैल बजी... वही था...

"लोगे कुछ डॉक्टर ?"... "शुक्रिया, मैं पीना छोड़ चुका हूँ"... मैंने एक ग्लास में आरेंज जूस डाल उसे पकड़ाया...

"आफिसर, तुम मुझे काबिल आदमी लगते हो, उसके पास से कुछ बरामद हुआ क्या ?, क्या जानते हो उसके बारे में ?"

अब वह मुद्दे पर आ गया था, मैंने एक गहरी साँस ली... " बम फोड़ने वाला था तुम्हारा भाई, सादे सामानों से बने पर बेहद खूबसूरत डिजाईन के बम होते वो, तभी फटते जब वह चाहता, जगहें भी उसने तलाश लीं थी"

उसके चेहरे से मानो खून सा उतर गया... वह उठा, तकरीबन आधा गिलास ब्रान्डी से भरा और हलक से नीचे उतार लिया...

" एक डील करोगे आफिसर, मैं तुमको कातिल दे दूंगा पर तुम यह बम वाली बात किसी पर भी जाहिर न करना "

अब वह मेरी टेरीटरी में था... ऐसे सैकड़ों डील हम करते और फिर उनसे मुकर जाते हैं... क्या करें, काम ही ऐसा है... मैंने हाथ बढ़ाया " डील !"

" तुम्हारी नेम प्लेट से जाहिर होता है तुम फौज में थे ना आफिसर... बब्बा भी फौज में थे... सिपाही... एक गश्त के दौरान पहाड़ से गिरे, दाहिने पैर की दो हड्डियाँ ऐसी टूटी कि कभी सीधी नहीं जुड़ पायी... साढ़े चार साल की नौकरी के बाद ही चौथायी पेंशन के साथ घर आना पड़ा उनको... फिर चाय का होटल खोला उन्होंने... सुबह चार बजे से माई कोयले सुलगा भट्टी जलाती और बब्बा गाँव निकल पड़ते ताजा दूध लेने... खुद को मिटा कर हम दोनों को बनाया उन्होंने... मैं डॉक्टर बना और वह ईंजीनियर... वह मुझे 'टैबलेट' कहता और मैं उसे 'नटबोल्ट'... उसने शादी नहीं की तमाम कहने पर भी... कुछ समय से बदल गया था वह... हर समय प्रार्थना में लगा रहता, ऊपर वाले को याद करता रहता... बदले की बातें भी करने लगा था वह... मुझे अच्छा नहीं लगता था यह... मुझे बब्बा की याद आती थी, पंद्रह अगस्त-छब्बीस जनवरी को झंडे को सीना तान नम आंखों से सलामी देने वाले बब्बा... उन दोनों दिन हमारी दुकान में हर किसी को एक कप चाय और दो बूंदी के लड्डू खिलाये जाते थे सारा दिन बिना पैसा लिये... बब्बा इसे अपना सबसे बड़ा त्यौहार मानते थे... दीवाली के दिन फिर हममें बहस हुई पर वह नहीं माना... मैंने फैसला कर लिया, शाम वह घर आया खाना खाने तो मैंने उस से कहा कि मैं भी उसके साथ हूँ... चारों तरफ पटाखे छूट रहे थे... मैं उसके फ्लैट पर पहुंचा, दस्ताने पहने था मैं... वह टीवी देख रहा था..."क्या बात, टैबलेट, ठन्ड इतनी तो नहीं है।"... "मुझे हल्का बुखार सा है"... "डाक्टर को बुखार"... उसने मजाक उड़ाया..." 'नटबोल्ट' अब तो मैं तेरे साथ हूँ, कुछ हो गया तो अपनी हिफाजत का भी सोचना होगा, वह पिस्टल तो दिखा जो तूने पिछले महीने खरीदी है"... वह उठा, दराज से पिस्टल निकाली, मैगजीन लगायी और बड़ी शान से बताने लगा उसके बारे मैं... मैंने पिस्टल हाथ में ली, अनलाक किया और निशाना ले एक गोली दाग दी, ठीक दिल के ऊपर... धड़कता दिल धीरे धीरे खाली हुआ... उसकी आँखें खुली की खुली रह गयीं... मैंने उसके माथे को चूमा... आँखों को बन्द किया... " मुझे माफ करना 'नटबोल्ट'... पर मैं बब्बा को इस उम्र में तिल तिल कर मरते नहीं देख सकता"... और मैं चाबी लगा बाहर निकल गया"...

एक गहरी साँस ले वह रूक गया... काफी देर सिर झुकाये न जाने क्या सोचता सा रहा... फिर मेरी आँखों में आँखें डाल बोला बेहद धीमी आवाज में... 

"मुझे अरेस्ट कर लो आफिसर... कह देना मैंने ईर्ष्यावश उसे मारा... यह बम वाला एंगल निकाल दो... नहीं तो बब्बा फिर भी जीते जी मर जायेंगे ।"

मुझे अचानक जाम में मजा आना बन्द हो गया...

"मैं आता हूँ डॉक्टर, एक घंटे तक मेरा यहीं इंतजार करना...  मुझे कुछ बहुत जरूरी काम निपटाना है ।"





मैं आफिस गया, फाइल निकाली... आखिरी पेज पर लिखा...  

No headway made, There are no viable clues to proceed any further, Recommended closure of the case. ...

फिर मैंने केस से संबंधित बरामद सामान का गत्ते का कार्टन उठाया और उसे कार की डिक्की में लाद लिया...




ईंट भट्ठे में कार घुसते ही शमशाद भाई दौड़ कर पास आये... पहले भी कई बार वहाँ जा चुका था मैं... वह मेरा मकसद जानते थे...मैंने कार्टन उठाया... वह आगे आगे चले... हम भट्ठी के ऊपर चढ़े... लड़के ने दहकती भट्टी का ढक्कन सरिये से उठाया... मैंने कार्टन अन्दर डाल दिया और उसके जलकर राख होने तक वहीं खड़ा रहा...





वह सोफा पर बैठा हुआ था... पस्त सा... मेरे घुसते ही उसने दोनों हाथ आगे बढ़ाये... "हथकड़ी लगा दो आफिसर" ...

मैंने आगे बढ़ उसे सीने में भींच लिया...

बड़ी हिम्मत लगी यह कहने में... " मुझे अपना भाई बनाओगे, डॉक्टर ?...

वह बच्चों की तरह सुबक सुबक कर रो रहा था, मेरे सीने से चिपटकर...  

मेरी आँखें भी भर आई थीं...

ऐसा मेरी जिंदगी में पहली बार हो रहा था...









...


10 टिप्‍पणियां:


  1. बेहतरीन कहानी है , शायद पहली बार कोई कहानी कई बार पढ़ी !
    बधाई प्रवीण , आपका यह स्वरुप पता नहीं था !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. .
      .
      .
      आदरणीय सतीश जी,

      आभार आपका, इस हौसला-आफजाई के लिये...




      ...

      हटाएं
  2. कहानी का शीर्षक -अप्रत्याशित! लोकेशन चन्द्रमा कर दीजिये -मैं इसे साईंस फिक्शन मान लूँगा !
    कहानी में हाथ पक्का है -विज्ञान कथाओं के लिए काम करेगें?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. .
      .
      .
      हाँ काफी दिन से एक दो प्लॉट हैं दिमाग में, विज्ञान फैंटसी के... समय नहीं मिल पाता... :)... और मुझे नहीं लगता कि ब्लॉग में डालने पर पाठक मिलेंगे उनको...


      ...

      हटाएं
  3. शाह जी अंततः आप भी कहानीकार निकले.......

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह ... बहुत बढिया कहानी लगी... साधुवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  5. मैं तो सकते में हूँ ....बधाई स्वीकारे .

    उत्तर देंहटाएं

मेरे इस आलेख को पढ़ कर ही यदि आपके मन में कोई विचार उत्पन्न हुऐ हैं तो कृपया उन्हें 'नेकी कर दरिया में डाल' की तर्ज पर ही यहाँ टिप्पणी रूप में दर्ज करें... इस टिप्पणी के पीछे कोई अन्य छिपा हुआ मंतव्य न रखें, आप इसे उधार में मुझे दी गयी टिप्पणी न समझें, प्रतिउत्तर में आपके ब्लॉग पर टिप्पणी करने की किसी बाध्यता को मैं नहीं मानता व मुझसे या किसी अन्य ब्लॉगर से भी ऐसी अपेक्षा रखना न तो नैतिक है न उचित ही !... मैं किसी अन्य के लिखे आलेखों पर भी इसी नियम व भावना के तहत टिपियाता हूँ !

असहमति को इस ब्लॉग पर पूरा सम्मान दिया जाता है, आप मेरे किसी भी विचार का खुल कर विरोध या समर्थन कर सकते हैं, परंतु अशिष्ट या अश्लील भाषा यु्क्त अथवा किसी के भी ऊपर व्यक्तिगत आक्षेपयुक्त टिप्पणियाँ कृपया यहाँ न दें... आप अपनी टिप्पणियाँ English, हिन्दी, रोमन में लिखी हिन्दी, हिंग्लिश आदि किसी भी तरीके से लिख सकते हैं... नहीं कुछ लिखना चाहते हैं तो भी चलेगा... आपके आने का शुक्रिया... आते रहियेगा भविष्य में भी... आभार!