रविवार, 27 फ़रवरी 2011

दिल थाम के बैठे हैं हम... क्या होगा आज ???

.
.
.

मेरे 'क्रिकेट-धर्मा' मित्रों,

आशंकायें थी कि २०-२० क्रिकेट के आगाज के साथ एकदिवसीय क्रिकेट अपना आकर्षण खो देगा... पर आज के इस मैच के टिकटों के लिये जिस तरह भीड़ उमड़ी व लाठियाँ खा कर भी क्रिकेट प्रेमी टिकट की लाईन में डटे रहे... उस से यह आशंका निर्मूल साबित हुई... जब तक अपनी टीम ठीकठाक खेलेगी उसे सपोर्ट की कमी नहीं रहेगी यह पक्का है!
बेंगालुरू के चिन्नास्वामी स्टेडियम में होने वाला इस मैच में संभावना जताई जा रही है कि प्रैक्टिस मैच की तरह ही ग्रुप मैच में भी पिच स्पिनरों की मददगार रहेगी... पहले मैच में श्रीसंथ की पिटाई लगी है और नेहरा शायद अभी तक पूरी तरह फिट नहीं हैं... जिस तरह की खबरें आ रही हैं लगता है कि भारत दो स्पिनर लेकर उतरेगा मैदान पर... दाहिने हाथ के लेग स्पिनर पीयूष चावला को मौका मिलने की संभावना है... एक तरह का जुआ सा भी होगा यह... पिच से यदि लिफ्ट व टर्न नहीं मिला तो हमारे दोनों स्पिनर हरभजन व चावला निष्प्रभावी दिखेंगे... पाँचवा बॉलिंग स्लॉट भी युसुफ पठान व युवराज जैसे पार्ट टाइम स्पिनर भरते हैं... अगर सपाट पिच है तो मुनाफ भी पिट सकते हैं... कुल मिलाकर लब्बोलुबाब यह है कि यदि ग्राउंड्समैन ने स्पिनर फ्रेंडली पिच नहीं दी तो गेंदबाजी कुछ खास नहीं कर पायेगी... और यदि पिच स्पिनर फ्रेंडली है तो भी इंग्लैंड के पास भी Graeme Swann जैसा स्पिनर भी है... जो वर्तमान फॉर्म के आधार पर दुनिया का सर्वश्रेष्ठ ऑफ स्पिनर कहा जाता है...

मतलब सीधा सादा है कि आज अगर जीतना है तो बल्लेबाजों को हर हाल में चलना होगा...
बैटिंग पहले मिलती है और पिच सपाट है तो कम से कम सवा तीन सौ से ऊपर रन टांगने होंगे यदि इंग्लैंड को दबाव में लेना है तो...
और यदि इंग्लैंड पहले बैट करता है तो भी कप्तान Andrew Strauss , Kevin Pietersen , Matt Prior , Ian BellPaul Collingwood सब से सब शानदार फॉर्म में चल रहे हैं... निचले क्रम में आज की इंग्लैंड टीम के पास ऐसे बल्लेबाज भी हैं जो 'लाँग हैंडल' भी इस्तेमाल कर सकते हैं... यानी इंग्लैंड टीम हर स्थिति में चैलेंजिंग टोटल स्कोर करेगी... यानी हमें मैच अपनी बल्लेबाजी से ही जीतना होगा...

अगर तेज गेंदबाजी की बात करें तो इंग्लैंड के James Anderson , Tim Bresnan और Stuart Broad तीनों अच्छी गेंदबाजी कर रहे हैं... हमारी तेज गेंदबाजी उनके मुकाबले काफी कमजोर नजर आती है... कागज पर भी और मैदान पर भी...

इस विश्व कप में इंग्लैंड भी केविन पीटरसन को ओपनर के तौर पर खिला कर एक नया प्रयोग कर रहा है... पीटरसन अच्छे फिनिशर के तौर पर जाने जाते हैं व उनके मध्यक्रम की रीढ़ कहे जाते हैं... यह प्रयोग मुझे तो सही नहीं लगता... ठीक इसी तरह मुझे सचिन का गंभीर की जगह सहवाग के साथ ओपन करने उतरना भी सही नहीं लग रहा... मुझे लगता है कि गंभीर सहवाग के ओपनिंग साथी के तौर पर ज्यादा बेहतर है क्योंकि उसके होने से दोनों छोरों से तेजी से रन मिलते हैं और इस समय वह आत्मविश्वास से भरा व सहज खेल रहा है... सचिन अभी भी सहज नहीं लग रहे, वह अपने अंतिम विश्वकप में अच्छा परफॉर्म करने के बोझ तले दबे से नजर आ रहे हैं...

युवराज के लिये यह मैच अहम रहेगा... उनके आगे के कैरियर की दशा-दिशा तय हो सकती है इससे... यह भी देखना रोचक रहेगा कि स्टुवर्ट ब्रोड को युवराज कैसा खेलते हैं... जिन्हें इस प्रतिद्वंदिता के बारे में नहीं पता वह ब्रोड के एक ओवर में युवराज द्वारा मारे गये छह छक्कों का यह वीडियो अवश्य देखें...

अपना दिल तो चाहता है कि आज भारत ही जीते... पर दिमाग बार-बार यह कह रहा है कि थोड़ा पलड़ा इंग्लैंड का ही भारी है...

चलिये देखते हैं क्या होता है...


क्रिकेट मसाला:-

आज बात करेंगे लेग स्पिन की... पर पहले यह बताइये कि क्या आपने बॉल ऑफ द सेंचुरी देखी है...

यदि नहीं तो नीचे दिये यूट्यूब लिंकों पर जाकर अवश्य देख लीजिये ...

हर किसी को एक बार जरूर देखना चाहिये इसे...

यू-ट्यूब लिंक- १

यू-ट्यूब लिंक- २

यू-ट्यूब लिंक- ३

दाहिने हाथ के गेंदबाज व दाहिने ही हाथ के बल्लेबाज के लिये लेगस्पिन वह गेंद कहलायेगी जिसने ठप्पा लेग स्टंप या मिडिल स्टंप पर खाया हो तथा टर्न होकर ऑफ स्टंप या ऑफ स्टंप के बाहर की ओर आये... इसके लिये बॉलर गेंद को डिलीवर करते समय उसे एन्टीक्लॉक वाइज घूर्णन (spin) देता है... लेकिन यदि लेगस्पिनर द्वारा फेंकी गई गेंद ऑफ स्टंप से लेग की ओर टर्न ले तो वह गुगली (googly) या 'रॉंग वन" (wrong'un) कहलायेगी... जो लेगस्पिनर का प्रमुख हथियार है...

देखिये महान लेगस्पिनर अब्दुल कादिर द्वारा डाली यह बेहतरीन गुगली गेंद !

वैसे यह भी बता दूँ कि स्पिनरों की गेंदों को मिलने वाले टर्न व लिफ्ट (उछाल) के पीछे भौतिकी के जो दो सिद्धान्त काम करते हैं वे हैं Law of conservation of momentum Law of conservation of energy ...


आभार!





...


17 टिप्‍पणियां:

  1. excellent post, loved the links provided by u.

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह! आप तो क्रिकेट प्रेमी हैं !शानदार पोस्ट। लिंक भी शानदार।

    उत्तर देंहटाएं
  3. निश्चित नहीं कर पा रहे हैं कि स्टेडियम जाकर देखें कि घर में।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छा लगा जानकर कि आप भी क्रिकेट देखते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्रिकेट, क्रिकेट और क्रिकेट
    हमारे घर के अन्दर भी ये दीवानगी छायी हुयी है
    अजीब आलम है ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. अजी क्या होना है…………बस जीतेंगे हम इसके आगे हम नही सोचते…………अच्छा सोचने से अच्छा ही होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (28-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  8. अच्छी पोस्ट के लिये बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. इंडिया जीत रही है।..बधाई। 327-7 48.2 ओवर।

    उत्तर देंहटाएं
  10. ये पोस्ट कल ही पढ़ी थी, सोचा क्या टिप्पणी करून....
    लेकिन कल का मैच देखा तो सोचा उपस्थिति लगा देता हूँ ...
    इस रोमांच की पराकाष्ठा के बाद मैच बराबरी पर छूटा.... हालाँकि ३३८ का स्कोर छोटा नहीं था लेकिन एक तरह से कई उतार चढ़ाव के बाद संतुष्ट होना ही पड़ेगा रिजल्ट से....

    उत्तर देंहटाएं
  11. क्रिकेट में विशेष दिलचस्पी नहीं है लेकिन आपके लेख ने उत्सुकता बढ़ा दी...

    उत्तर देंहटाएं
  12. we lost one view and we could have won it was matter of just one more wicket

    match tied up good for the game but when one competes its top win

    i was disappointed at the finish of the game . its a pity when we lose to pak or england


    by the way there was one one question that cropped up
    why is uk team called as england team ???? in future are we going to have delhi team ??? !!!

    but seriously why its so

    उत्तर देंहटाएं
  13. चर्चा मंच पर आपके ब्लॉग का लिंक मिला . अच्छा लगा अनुसरण कर लिया . लगता है आपसे सिखने को मिलेगा . क्रिकेट से संबंधी मेरा भी ब्लॉग है फुर्सत मिले तो पढिएगा और सुझाव भी दीजिएगा
    my blog is

    --- dilbagvirk.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  14. पिछले दो दिन से नेटवर्क ही नहीं था अब ...

    तुझे क्या सुनाऊं मैं दिलरुबा तेरे सामने मेरा हाल है :)

    उत्तर देंहटाएं
  15. क्रिकेट मसाला शानदार है........

    उत्तर देंहटाएं
  16. प्रवीन जी आपके आंकलन बड़े सटीक थे. सच में भारतीय टीम की इज्जत मुश्किल से बची.

    उत्तर देंहटाएं
  17. .
    .
    .
    @ रचना जी,

    "by the way there was one one question that cropped up
    why is uk team called as england team ???? in future are we going to have delhi team ??? !!!

    but seriously why its so "



    Well, for cricket, England, Ireland and Scotland have different teams, Ireland is also participating in this world cup.
    West Indies team is a combined team of all Caribbean Island nations.


    ...

    उत्तर देंहटाएं

मेरे इस आलेख को पढ़ कर ही यदि आपके मन में कोई विचार उत्पन्न हुऐ हैं तो कृपया उन्हें 'नेकी कर दरिया में डाल' की तर्ज पर ही यहाँ टिप्पणी रूप में दर्ज करें... इस टिप्पणी के पीछे कोई अन्य छिपा हुआ मंतव्य न रखें, आप इसे उधार में मुझे दी गयी टिप्पणी न समझें, प्रतिउत्तर में आपके ब्लॉग पर टिप्पणी करने की किसी बाध्यता को मैं नहीं मानता व मुझसे या किसी अन्य ब्लॉगर से भी ऐसी अपेक्षा रखना न तो नैतिक है न उचित ही !... मैं किसी अन्य के लिखे आलेखों पर भी इसी नियम व भावना के तहत टिपियाता हूँ !

असहमति को इस ब्लॉग पर पूरा सम्मान दिया जाता है, आप मेरे किसी भी विचार का खुल कर विरोध या समर्थन कर सकते हैं, परंतु अशिष्ट या अश्लील भाषा यु्क्त अथवा किसी के भी ऊपर व्यक्तिगत आक्षेपयुक्त टिप्पणियाँ कृपया यहाँ न दें... आप अपनी टिप्पणियाँ English, हिन्दी, रोमन में लिखी हिन्दी, हिंग्लिश आदि किसी भी तरीके से लिख सकते हैं... नहीं कुछ लिखना चाहते हैं तो भी चलेगा... आपके आने का शुक्रिया... आते रहियेगा भविष्य में भी... आभार!