शनिवार, 8 मई 2010

वफादार ईमानदार नहीं हो सकता !


.
.
मेरे 'ईमानदार' मित्रों,

जैसा माहौल है राज-काज में आजकल, आप जानते ही हैं... अक्सर टकराव होता है जीवन मूल्यों को सर्वोपरि रखने वालों व प्रैक्टिकल एप्रोच में विश्वास रखने वालों के बीच में...

ऐसे माहौल में मेरे एक वरिष्ठ अधिकारी अक्सर यह कहते हैं कि...

"ईमानदार शख्स आज के माहौल में वफादार नहीं हो सकता और जो आज के माहौल में वफादार है वह कभी भी पूरी तरह से ईमानदार नहीं हो सकता!"

कभी कभी सोचता हूँ कि उनका कहना कितना सही है...

क्या ऐसा ही नहीं होता धर्म और ईश्वर के बारे में हमारी सोच में...

यदि आप पहले से ही खुद को 'उस' का वफादार मानते और बनाये बैठे हो तो...

क्या आप तर्क और तथ्य आधारित निष्कर्षों के प्रति ईमानदारी दिखा सकते हो ?

तो...

क्या फैसला है आपका ?

'ईमानदारी' या 'वफादारी'

आपके फैसले का इंतजार रहेगा!
.



ईश्वर और धर्म को समझने का प्रयास करती इस लेखमाला के अब तक के आलेख हैं:-


बिना साइकिल की मछली... और धर्म ।


अदॄश्य गुलाबी एकश्रंगी का धर्म


जानिये होंगे कितने फैसले,और कितनी बार कयामत होगी?


पड़ोसी की बीबी, बच्चा और धर्म की श्रेष्ठता...


ईश्वर है या नहीं, आओ दाँव लगायें...


क्या वह वाकई पूजा का हकदार है...


एक कुटिल(evil) ईश्वर को क्यों माना जाये...


यह कौन रचनाकार है ?...








...

12 टिप्‍पणियां:

  1. महराज, आप तो कृपानिधान के पीछे ही पड़ गए हैं ! रहम कीजिए परवरदिगार पर ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. .
    .
    .
    @ गिरिजेश राव,

    हुजूर, यह तो हम कहते हैं कृपानिधान से...

    रहम करिये आदमजात पर!


    @ अनुनाद सिंह ,

    अच्छा लगा आपका आगमन, स्वागत है मित्र!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत संक्षिप में कहूँ तो :
    आदमी को ईमानदार होना चाहिए
    -
    -
    जब हम किसी चीज के प्रति वफादार होते हैं तो कहीं न कहीं आँखें बंद कर लेते हैं
    उदाहरण के तौर पर मान लीजिये हम कांग्रेस के प्रति वफादार हैं
    अब कांग्रेस के टिकट पर कोई भी टपोरी या छुटभैया चुनाव में खड़ा है तो हमारा वोट उसी के पक्ष में जाएगा !
    -
    -
    आदमी समाज, देश व अपने कार्य के प्रति बस ईमानदार रहे
    यही बहुत है !

    उत्तर देंहटाएं
  4. और हां वफादारी तो ईमानदारी के प्रति होनी चाहिये!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपके वरिष्ठ अधिकारी आपके(लिये) ईश्वर से कहीं ज्यादा शक्तिशाली हैं। ईश्वर का विरोध करते रहियेगा क्योंकि वो आपके वरिष्ठ अधिकारी नहीं हैं :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. कहाँ से लाते हैं आप इतने पैने विचार। आपने तो सचमुच धर्मसंकट में डाल दिया, अब तो सोचना पडेगा।
    --------
    बूझ सको तो बूझो- कौन है चर्चित ब्लॉगर?
    पत्नियों को मिले नार्को टेस्ट का अधिकार?

    उत्तर देंहटाएं
  7. Ramkumar ji .
    You are writing very well on blogs.
    try to read me.
    I want to spread my thouhts everywhere.
    GUIDE ME WHAT SHOULD I dO ?

    उत्तर देंहटाएं
  8. अच्छे है आपके विचार ...
    _______________
    पाखी की दुनिया में- 'जब अख़बार में हुई पाखी की चर्चा'

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत संक्षिप में कहूँ तो :
    आदमी को ईमानदार होना चाहिए
    -
    -
    जब हम किसी चीज के प्रति वफादार होते हैं तो कहीं न कहीं आँखें बंद कर लेते हैं

    @ Prakash Govind ji से पूरी तरह सहमत हूँ

    उत्तर देंहटाएं

मेरे इस आलेख को पढ़ कर ही यदि आपके मन में कोई विचार उत्पन्न हुऐ हैं तो कृपया उन्हें 'नेकी कर दरिया में डाल' की तर्ज पर ही यहाँ टिप्पणी रूप में दर्ज करें... इस टिप्पणी के पीछे कोई अन्य छिपा हुआ मंतव्य न रखें, आप इसे उधार में मुझे दी गयी टिप्पणी न समझें, प्रतिउत्तर में आपके ब्लॉग पर टिप्पणी करने की किसी बाध्यता को मैं नहीं मानता व मुझसे या किसी अन्य ब्लॉगर से भी ऐसी अपेक्षा रखना न तो नैतिक है न उचित ही !... मैं किसी अन्य के लिखे आलेखों पर भी इसी नियम व भावना के तहत टिपियाता हूँ !

असहमति को इस ब्लॉग पर पूरा सम्मान दिया जाता है, आप मेरे किसी भी विचार का खुल कर विरोध या समर्थन कर सकते हैं, परंतु अशिष्ट या अश्लील भाषा यु्क्त अथवा किसी के भी ऊपर व्यक्तिगत आक्षेपयुक्त टिप्पणियाँ कृपया यहाँ न दें... आप अपनी टिप्पणियाँ English, हिन्दी, रोमन में लिखी हिन्दी, हिंग्लिश आदि किसी भी तरीके से लिख सकते हैं... नहीं कुछ लिखना चाहते हैं तो भी चलेगा... आपके आने का शुक्रिया... आते रहियेगा भविष्य में भी... आभार!