रविवार, 17 जनवरी 2010

यह ARTISTIC FREEDOM है, दिमागी दिवालियापन या निचले दरजे का दोगलापन ? निर्णय आपका, सर माथे पर . . . . . . .(एक माइक्रो पोस्ट) . . . . . . प्रवीण शाह।

.
.
.
मेरे निरपेक्ष मित्रों,

ज्यादा कुछ कहूँगा नहीं, मन दुखी है, आप कृपया करके इस पोस्ट... को एक बार देखिये जरूर और फिर निर्णय सुनाइये...

आप का हर निर्णय इस नाचीज को शिरोधार्य होगा।


.
.
.
भड़ास को धन्यवाद सहित!

16 टिप्‍पणियां:

  1. .
    .

    .
    .
    भाया, मैं मीडियॉकर हूँ - कला की समझ नहीं है। पिकासो तक की कई पेंटिंग बकवास दिखती हैं।
    लेकिन एक कायर, विकृत,पाखंडी, धर्मान्ध, प्रचारलोभी और मीडियॉकर चित्रकार की कृतियों की बेहूदगी और उनके पीछे छुपे परवर्जन को समझ सकता हूँ। उसे सिर्फ अपनी बेहूदी पेंटिंग्स की कीमत बढ़ाने की चिंता है। सॉलिड मार्केटिंग करता है!
    ... कह रहा हूँ कि सेकुलर नहीं हूँ, इसलिए अपने को 'बुद्धिजीवी' भी नहीं मानता।
    वैसे मेरे निर्णय से कोई फर्क पड़ता है क्या? उपर जो लिखा है उसे 'निर्णय' श्रेणी में रखा भी जा सकता है क्या?
    *
    &
    @
    $
    #
    !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपके द्वारा दिये गए लिंक पर पूर्व ही ज्ञात हुसैन की उस मानसिकता के दर्शन हुए जो पेशाबघरों में अश्लील चित्र बनाने वालों की हुआ करती है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेरे लिये वो पोस्ट कुछ नयी नहीं है. काफ़ी पहले एक अंग्रेजी वेबसाइट पर वो सारा मैटर देखा था.

    हुसैन जैसे निकृष्ट इंसान से आप इससे इतर कुछ और की उम्मीद नहीं कर सकते पर उसके समर्थक कमीनिस्टों और छद्म सेकुलरों के मुंह पर ये एक तमाचा है.
    -----------------
    इस पोस्ट में आपको अपनी ओर से भी कुछ कहना चाहिये था. सिर्फ़ एक लिंक देकर सरक लेना काफ़ी नहीं है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. निर्णय को शिरोधार्य करके क्या करेंगे आप
    गोली मार देंगे

    उत्तर देंहटाएं
  5. .
    .
    .
    @ Ghost Buster जी,

    ज्यादा कुछ कहूँगा नहीं, मन दुखी है

    मेरी समझ से मैं कह चुका, जो मुझे कहना था।


    @ डॉ महेश सिन्हा जी,

    निर्णय को शिरोधार्य करके क्या करेंगे आप
    गोली मार देंगे


    यह किस तरह का सवाल कर रहे हैं आप, कहीं कहा है क्या मैंने ऐसा ? यह तो एक hypocrisy की ओर ध्यान आकृष्ट करने का प्रयास मात्र है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. जो लोग हुसैन को भारत घुसने पर पीटने की धमकी देते हैं वो सही करते हैं ....... कला के नाम पर धब्बा हैं ऐसे लोग ........

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. हुसैन तो मादर** है ही उससे बड़े वाले तो वो नंगे सेकुलर भांड धंधे वालो की औलादे जो हुसैन मादर** की तरफदारी करते है, साले कला कहते है तो अपनी बहन बेटी की बनवाया करे !!! ऐसे सेकुलर भांडों को भाला डाले जाने की सख्त ज़रुरत है !!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. @ डॉ महेश सिन्हा जी गोली ही तो मार देना चाहिए हुसैन जैसे पागल कुत्तो को पर ये काम सरकार को करना चाहिए, जो की बिकी नंगी वेश्या से ज्यादा कुछ नहीं !!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. प्रवीण भाई,
    ये चित्र बहुत पहले ही देखे हुए हैं, इन्हीं चित्रों की प्रदर्शनी के बाद बवाल हुआ था जिसके बाद हुसैन भारत से बाहर खिसक लिया था। NDTV और सेकुलर चैनल इसकी भारत वापसी के लिये प्रयत्नरत हैं और इसे "भारत रत्न" दिलवाने के लिये SMS मंगवाते हैं।

    हम कुछ लिखते हैं तो साम्प्रदायिक घोषित हो जाते हैं, लेकिन अभिव्यक्ति की स्वतन्त्रता के नाम पर नंगा नाचने वाले प्रगतिशील सेकुलर कहलाते हैं। जब तक कांग्रेसी सेकुलरिज़्म इस देश में रहेगा ऐसा ही चलता रहेगा… खून के घूंट पीकर जीते रहिये…। आप सिर्फ़ दुखी हैं… हम तो हुसैन की…

    उत्तर देंहटाएं
  11. साला समझ नहीं आता कि ऐसे लोग हमारे देश में जिंदा कैसे रहते हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. हुसैन को मैंने मादर** इस लिए कहा की उसका नाम भी तो M F हुसैन है , उसके बाप माँ को पता था की वो क्या है तो उसका नाम रखा "मदर FU***R हुसैन" !!! उसका हिंदी अनुवाद तो यही हुआ न !!

    क्यों NDTV वाले प्रणव राय, तुम्हारी क्या राय है ???

    उत्तर देंहटाएं

मेरे इस आलेख को पढ़ कर ही यदि आपके मन में कोई विचार उत्पन्न हुऐ हैं तो कृपया उन्हें 'नेकी कर दरिया में डाल' की तर्ज पर ही यहाँ टिप्पणी रूप में दर्ज करें... इस टिप्पणी के पीछे कोई अन्य छिपा हुआ मंतव्य न रखें, आप इसे उधार में मुझे दी गयी टिप्पणी न समझें, प्रतिउत्तर में आपके ब्लॉग पर टिप्पणी करने की किसी बाध्यता को मैं नहीं मानता व मुझसे या किसी अन्य ब्लॉगर से भी ऐसी अपेक्षा रखना न तो नैतिक है न उचित ही !... मैं किसी अन्य के लिखे आलेखों पर भी इसी नियम व भावना के तहत टिपियाता हूँ !

असहमति को इस ब्लॉग पर पूरा सम्मान दिया जाता है, आप मेरे किसी भी विचार का खुल कर विरोध या समर्थन कर सकते हैं, परंतु अशिष्ट या अश्लील भाषा यु्क्त अथवा किसी के भी ऊपर व्यक्तिगत आक्षेपयुक्त टिप्पणियाँ कृपया यहाँ न दें... आप अपनी टिप्पणियाँ English, हिन्दी, रोमन में लिखी हिन्दी, हिंग्लिश आदि किसी भी तरीके से लिख सकते हैं... नहीं कुछ लिखना चाहते हैं तो भी चलेगा... आपके आने का शुक्रिया... आते रहियेगा भविष्य में भी... आभार!